0

हथेली अपनी बिछा दूंगा.....

Posted by babul on 6/10/2012 12:37:00 PM

यूं छुड़ाकर हाथ अपना तुम मुझसे,
लौट चले हो तो लौट जाओ, लेकिन।


थक जाओ कभी मुझको याद कर लेना,
तेरे कदमों में हथेली अपनी बिछा दूंगा।
  • - रविकुमार बाबुल

|

0 Comments

Post a Comment

Copyright © 2009 babulgwalior All rights reserved. Theme by Laptop Geek. | Bloggerized by FalconHive.