1

जन्नत

Posted by babul on 6/06/2011 05:57:00 PM



मैं जहन्नुम जाना चाहता हूं,
इसलिये की,
मैं बुरा हूं।
मित्र, तुम गलत हो।
मैं तो जहन्नुम,
इसलिये जाना चाहता हूं?
कि इस धरा पर,
न मैं उसके जैसा हो पाया,
और न वो मेरे जैसा?
शायद,
वहां ही किसी को
अपने जैसा बना दूं।
जहन्नुम को जन्नत बना लूं?

रविकुमार सिंह
http://babulgwalior.blogspot.com/

|

1 Comments

Post a Comment

Copyright © 2009 babulgwalior All rights reserved. Theme by Laptop Geek. | Bloggerized by FalconHive.