8
Posted by babul on 11/04/2009 10:49:00 AM
आज का पंगा
जानता राजा का राज
लो जनाब हम हिन्दुस्तानियौं के रग रग में नाटक रचा बसा है आप जहाँ चाहेयें वहां नाटक खेल सकते हैं देख सकते हैं गली हो या सड़क पांचो की चोप्पल हो या संसद सब जगह किसी न किसी रूप में नोत्तान्किबाज मुजुद रहते ही हैं अरे भूल गए अंदर बहार हुए नाटकों को? खेअर चोदिये हम तो गंम्भीर बात कर रहे हैं हालाँकि मेरा जोर आप पर चलता नही है तो आप इसे हलके में लें तब भी में आपका कुछ नही कर सकता हूँ हाँ तो जनाब आपको याद होगा की पहले भी ग्वालियर में एक नाटक मंच पर खेला गया था जानता राजा नाम के इस नाटक को भव्य सेट पर सकेंदो कलाकार ने इसे मंचित किया था जानता राजा नाम का यही नाटक आब पुनः ग्वालिउओर में मंचित किया जाना चैह्ये इस नाटक को मंचित कर इस खेल के पीछे किस व्यभ्स्था का खेल है इसका राज तो यह खेल खेलें वाले ही खोल सकते हैं लेकिन इस बार जानता राजा के मंचन के लिए नाटक के नाम पर जो धिर्श्य द्रिस्त्व्य हो रहे हैं वह पीडा ही पहंचा रहे हैं तथा आप जैसे ज्ञानी दयानी को तो आगे का हाल पड़ आवस्य ही पीडा की अनुभूति होगी इस नाटक से आप जैसे लोगो का कितना मनोरजन या ज्ञान बढेगा यह आगे की बात है आजकल आपने मध्य परदेश के स्वस्थ्य मंत्री अनूप मिश्रा जी ही को नाटकों का शोक हो चला है अरे अरे वह नाटक नही करने जा रहे हैं (विधान सभा भला कम है )बल्कि जानता राजा के मंचन में आपने नेत्रताब में बीमार हो चलें स्वस्थ्य महकमें के जरिये मदद का फरमान उनोनेह जारी कर एक ही जझ्टके में तमाम धर्सक जुटा डाले ठीक है आप मंत्री हैं वह इतना तो कर ही सकते हैं जानता राजा के लिए आपको तो याद ही होगा अभयगोयल का नाम श्री हाँ हाँ डॉक्टर अभय गोयल जो आठ नो माह पूर्व परलोक शिधार गए थे वह भी स्वस्थ्य महकमे के पास पैस तो था ही नही और तो और सहयोगियों या युऊँ कहें सहकर्मियों की जबें भी खालें थीं बमुश्किल सात हजार रुपीया एकाक्त्रि़त ही हुए khuch चंदे में तो थोडी उधारी में उधारी की देनदारी की देनदारी आज भी बाकी है लेकिन उसी स्वस्थ्य महकमे के कर्मचारी और डॉक्टर आज भी बाकी हैं लेकिन उसी स्वस्थ्य महकमे के कर्मचारी और डॉक्टर आज भारतीय जनता पार्टी के कदवार नेता अनूप भाई के कहने पर अपनी जेबें खुल लक्ष्मी को पलक पांवडे भिचने को आतुर हैं जिसके तहत मेडिकल कॉलेज एवमं होश्पितल के पर्ते़क भिवाग को २५ हजार रूपा एअकात्र कर जानता राजा के मंचन के लिए देना ही है सो जनाब अस्सोसिअते प्रोफेस्सर को खुच आधिक और आस्सितंत प्रोफीसर को एक एक हाजआर रूपा देकर निशुल पास लेना ही पड़ेगा (निशुल्क पास इसलिए की एक्स्सर्सिज़े मनोरजन कर के नाम पर शुरू न हो सके) सभी नतमस्तक हूँ फरमान स्वीकार कर लें ऐसा भला कैसे होता तो जिनोहने एक हाजर रुपया या अस्सोसिअते प्रोफीसर के एक हाजर से अधिक राशिः देने से मनअ कर दिया तो मंत्री के kओ लिखित में कारन बत्लानेक का हुकुम दिया है

|

8 Comments


ब्लॉग जगत के साथियो नई जानकारी कमाई की
ब्लॉग जगत के साथियो एक नयी एअर्निंग तकनीक के साथ ब्लॉग जगत में आप सबका स्वागत है अद्सेंसे ने नई साथ दिया तो किया है इन सब को अजमाकर देखे और बताये कैसी रही जानकारी साथ ही कमाई भी ........http://alkagoel1408.blogspot.com/


स्वागत है ।
लिखते रहें ।
साहित्य के लिए मेरे ब्लोग का अनुसरण करें ।


चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
---
महिलाओं के प्रति हो रही घरेलू हिंसा के खिलाफ [उल्टा तीर] आइये, इस कुरुती का समाधान निकालें!


हिंदी ब्लॉग लेखन के लिए स्वागत और शुभकामनायें
कृपया अन्य ब्लॉगों पर भी जाएँ और अपने सुन्दर
विचारों से अवगत कराएँ


ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है...!!
--
शुभेच्छु

प्रबल प्रताप सिंह

कानपुर - 208005
उत्तर प्रदेश, भारत

मो. नं. - + 91 9451020135

ईमेल-
ppsingh81@gmail.com

ppsingh07@hotmail.com

ब्लॉग - कृपया यहाँ भी पधारें...

http://prabalpratapsingh81.blogspot.com

http://prabalpratapsingh81kavitagazal.blogspot.com

http://prabalpratapsingh81.thoseinmedia.com/

मैं यहाँ पर भी उपलब्ध हूँ.

http://twitter.com/ppsingh81

http://www.linkedin.com/in/prabalpratapsingh

http://www.mediaclubofindia.com/profile/PRABALPRATAPSINGH

http://thoseinmedia.com/members/prabalpratapsingh

http://www.successnation.com/profile/PRABALPRATAPSINGH


सच कहा है
बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .
कृपया मेरे भी ब्लागस देखे और टिप्पणी दे
http://manoj-soni.blogspot.com/


स्वागत!
बहुत खूब
बधाई !,संभावनायें असीम हैं।

http://samaysrijan.blogspot.com

http://swarsrijan.blogspot.com

Post a Comment

Copyright © 2009 babulgwalior All rights reserved. Theme by Laptop Geek. | Bloggerized by FalconHive.